रापद और महान दल की पहली संयुक्त जनसभा फ्लॉप

  • एक लाख के दावे के विपरीत पांच-छः सौ लोग ही आये
  • केशवदेव ने राहुल और डीपी ने नरेंद्र मोदी की प्रशंसा की
रापद और महान दल की सयुंक्त जनसभा में बैठे पांच-छः सौ लोग और मंच से बोलते केशवदेव मौर्य।
रापद और महान दल की सयुंक्त जनसभा में बैठे पांच-छः सौ लोग और मंच से बोलते केशवदेव मौर्य।

लोकसभा चुनाव की घोषणा होने के बाद आज बदायूं शहर के मिशन कंपाउंड में रापद और महान दल की पहली संयुक्त चुनावी जनसभा हुई, जो पूरी तरह फ्लॉप रही। जनसभा में एक लाख लोगों के आने का दावा किया जा रहा था, लेकिन जनसभा में नुक्कड़ सभा के बराबर पांच-छः सौ लोग भी नहीं आये।

उल्लेखनीय है कि उत्तर प्रदेश के कुछ बाहुबलियों, धनाढ्य और आपराधिक प्रवृति के नेताओं ने मिल कर पिछले दिनों एकता मंच बनाया था। मंच ने 36 उम्मीदवारों की सूची भी जारी कर दी थी, जिसके अनुसार गाजीपुर से राष्ट्रीय परिवर्तन दल के राष्ट्रीय अध्यक्ष डीपी यादव और कुशी नगर से महान दल के राष्ट्रीय अध्यक्ष केशवदेव मौर्य के चुनाव लड़ने की घोषणा की गई थी, लेकिन महान दल ने कांग्रेस से समझौता कर लिया, तो एकता मंच को छोड़ कर केशवदेव मौर्य और डीपी यादव भाग गये। समझौते के तहत महान दल को बदायूं लोकसभा क्षेत्र भी दिया गया है और चालाकी से महान दल डीपी यादव को मैदान में उतारना चाह रहा है। आज की जनसभा में सलीम इक़बाल शेरवानी को भी आना था, लेकिन वह नहीं आये, जिससे कयास लगाये जा रहे हैं कि डीपी यादव के नाम को लेकर कांग्रेस समझौता तोड़ सकती है।

उधर केशवदेव मौर्य ने जातिवाद को लेकर खुलेआम आपत्तिजनक भाषण दिया, साथ ही मंच से ही कहा कि डीपी यादव विशाल हृदय के स्वामी हैं। अपनी दयनीय आर्थिक स्थित बताते हुए कहा कि वे उन्हें घर दे चुके हैं और हैलीकॉप्टर से बुलाते हैं। बोले- डीपी यादव का उन पर कर्ज है, जिसे आप लोग उतारना। उन्होंने राहुल गांधी को श्रेष्ठ बताते हुए नरेंद्र मोदी को लेकर आपत्तिजनक भाषा का प्रयोग किया, वहीं डीपी यादव ने नरेंद्र मोदी की प्रशंसा की, साथ ही कहा कि वह संभल और बदायूं, दोनों जगह से चुनाव लड़ सकते हैं। डीपी ने यह भी कहा कि वह भाजपा में नहीं जायेंगे, पर भाजपा का समर्थन ले लेंगे।

संबंधित लेख पढ़ने के लिए क्लिक करें लिंक

बाहुबलि डीपी यादव के अलग होने से एकता मंच हुआ खंड-खंड

Leave a Reply