यूपी में बरकरार रहेगा माफियाओं का राज़

– राजनाथ सिंह ने तोड़ दी थी माफियाओं की कमर

यूपी में बरकरार रहेगा माफियाओं का राज़
यूपी में बरकरार रहेगा माफियाओं का राज़

उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी की सरकार बनते ही बहुजन समाज पार्टी की प्रदेश विरोधी नीतियों को बदलने का दावा किया गया था, लेकिन कुछ मामलों में सपा सरकार भी बसपा की राह पर ही चलती नज़र आ रही है। सपा सरकार ने बसपा द्वारा बनाई शराब नीति को और दो कदम आगे बढ़ाते हुए शराब की और दुकानें खोलने को हरी झंडी दे दी है।

उत्तर प्रदेश सरकार ने बसपा की शराब नीति को ही जारी रखा है। बसपा ने प्रदेश को जोन में बाँट कर अलग-अलग नीति बनाते हुए एक ख़ास ग्रुप को सीधा लाभ पहुंचाया था, जिसे तोड़ने की जगह सपा सरकार ने उसी नीति को आगे बढ़ाते हुए शराब की नई दुकानें खोलने का भी निर्णय लिया है। शौकीनों की सहूलियत के लिए सरकार ने देशी व विदेशी शराब की दुकानों को 15 प्रतिशत और बीयर की दुकानों को 25 प्रतिशत बढ़ाने का अधिकार आबकारी आयुक्त को दे दिया है। उत्तर प्रदेश में इस समय देशी शराब की 13423, विदेशी शराब की 4765 और बीयर की 3772 दुकानें हैं, साथ ही 391 माडल शॉप भी हैं, जो अब और अधिक हो जायेंगे।

अधिकाँश लोगों को अपेक्षा थी कि सपा सरकार शराब माफियाओं पर शिकंजा कसते हुए प्रदेश के हित में नीति तैयार करेगी, लेकिन ऐसा न होने से अधिकाँश लोग मायूस हैं। राजनाथ सिंह ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री के रूप में शराब माफियाओं की कमर तोड़ दी थी, पर उनकी सरकार जाते ही प्रदेश में माफिया फिर हावी हो गये और आज तक हावी हैं।

Leave a Reply