यूपी को चिकित्सा सुविधा देना एक बड़ी चुनौती: मुख्यमंत्री

 
  • बेहतर स्वास्थ्य एवं चिकित्सा सुविधाएं उपलब्ध कराना सरकार के साथ-साथ चिकित्सकों की जिम्मेदारी
  • नोएडा व ग्रेटर नोएडा के क्षेत्र में एक मेडिकल यूनिवर्सिटी स्थापित किए जाने पर विचार 
  • मुख्यमंत्री ने इण्डियन सोसायटी आफ एनेस्थीसियोलाजिस्ट के वार्षिक सम्मेलन का उद्घाटन किया
इन्दिरा गांधी प्रतिष्ठान, गोमती नगर में इण्डियन सोसायटी आफ एनेस्थीसियोलाजिस्ट के वार्षिक सम्मेलन का उद्घाटन करते मुख्यमंत्री अखिलेश यादव
इन्दिरा गांधी प्रतिष्ठान, गोमती नगर में इण्डियन सोसायटी आफ एनेस्थीसियोलाजिस्ट के वार्षिक सम्मेलन का उद्घाटन करते मुख्यमंत्री अखिलेश यादव
मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा है कि उत्तर प्रदेश जैसे बड़े राज्य की जनसंख्या को चिकित्सा सुविधा मुहैया कराना एक बड़ी चुनौती है, जिसे प्रदेश सरकार ने समझकर चिकित्सा शिक्षा एवं स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराने की दिशा में ठोस कार्यवाही की है। नई योजनाएं बनाई गई हैं, जिनका लाभ जनमानस को मिलने लगा है। उन्होंने कहा कि शीघ्र ही नोएडा व ग्रेटर नोएडा के क्षेत्र में एक मेडिकल यूनिवर्सिटी स्थापित किए जाने पर विचार किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि चिकित्सकों और चिकित्सा सुविधाओं की उपलब्धता से ही प्रदेश के लोगों की स्वास्थ्य व चिकित्सा सम्बन्धी समस्याओं का समाधान किया जा सकेगा।
मुख्यमंत्री आज यहां इन्दिरा गांधी प्रतिष्ठान, गोमती नगर में इण्डियन सोसायटी आफ एनेस्थीसियोलाजिस्ट के वार्षिक सम्मेलन के उद्घाटन अवसर पर प्रदेश व देश के दूसरे हिस्सों से आए एनेस्थीसियोलाजिस्टों को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार के साथ-साथ चिकित्सकों की यह जिम्मेदारी है कि वे लोगों को बेहतर स्वास्थ्य एवं चिकित्सा सुविधाएं उपलब्ध कराएं। प्रदेश सरकार ने इस जिम्मेदारी को निभाते हुए पिछले डेढ़ वर्ष के अन्दर एम0बी0बी0एस0 की पढ़ाई के लिए 500 सीटों का इजाफा किया है। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश विशाल जनसंख्या वाला राज्य है, जहां पर चिकित्सा सुविधाओं का अभाव है। यहां पर सुविधाओं को मुहैया कराने के लिए सभी मिलजुलकर बड़े पैमाने पर कार्य करना होगा, तभी कामयाबी मिलेगी।
श्री यादव ने कहा कि प्रदेश सरकार ने विभिन्न क्षेत्रों में विकास योजनाएं व कार्यक्रम संचालित किए हैं। उन्होंने उम्मीद जताई कि इण्डियन सोसायटी आफ एनेस्थीसियोलाजिस्ट का हेड आफिस प्रदेश में खुलेगा। उन्होंने कहा कि नेसकाम का हेडक्वार्टर नोएडा में स्थापित किए जाने की कार्यवाही हुई है, जिससे प्रदेश लाभान्वित होगा।
इण्डियन सोसायटी आफ एनेस्थीसियोलाजिस्ट के राष्ट्रीय अध्यक्ष डा. टी0 प्रभाकर ने मुख्यमंत्री का स्वागत करते हुए सोसायटी की गतिविधियों पर प्रकाश डाला। सोसायटी के प्रदेश अध्यक्ष डा. डी0के0सिंह ने उत्तर प्रदेश के महत्व की चर्चा करते हुए कहा कि यहां पर चार एम्स खोले जाने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि एनेस्थीसियोलाजिस्ट का कार्यक्षेत्र आज बेहद विस्तृत हो गया है। उन्होंने टेलीकान्फ्रेंसिंग और टेलीमेडिसिन के द्वारा चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराए जाने पर जोर दिया। इसके पूर्व, मुख्यमंत्री ने दीप प्रज्ज्वलन कर कार्यक्रम का शुभारम्भ किया। मुख्यमंत्री ने डा. अकरम लाल को लाइफ टाइम एचीवमेंट अवार्ड देकर सम्मानित किया। मुख्यमंत्री को स्मृति चिन्ह भेंट किया गया। इस अवसर पर सेण्ट्रल जोन की अध्यक्ष डा. शिखा मेहरोत्रा, डा. मोनिका कोहली, डा. भारत भूषण, डा. जयश्री समेत बड़ी संख्या में प्रदेश व देश के दूसरे हिस्सों से आए एनेस्थीसियोलाजिस्ट, चिकित्सा जगत से जुड़े लोग, वरिष्ठ अधिकारी एवं मीडियाकर्मी उपस्थित रहे।

Leave a Reply