मुजफ्फरनगर में कर्फ्यू में ढील, राहत सामग्री बंटी

  • मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को घायलों के निःशुल्क इलाज के निर्देश दिए
  • मृतकों के परिजनों व घायलों को तत्काल चेक दिलाने के भी निर्देश दिए 
  • दोपहर 12 बजे से शाम 5 बजे तक दी गई कर्फ्यू में ढील, तनाव बरकरार 
मुजफ्फरनगर में कर्फ्यू में ढील, राहत सामग्री बंटी
मुजफ्फरनगर में कर्फ्यू में ढील, राहत सामग्री बंटी
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने मण्डलायुक्त एवं जिलाधिकारी को जनपद मुजफ्फरनगर की हिंसा में घायल लोगों का निःशुल्क इलाज कराने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने हिंसा से प्रभावित लोगों की समस्याओं को जानने एवं समाधान के लिए उनके सम्पर्क में बने रहने के निर्देश देते हुए कहा है कि जिनके मकान या निवास जल कर क्षतिग्रस्त हो गए हैं, उनकी सूची तत्काल तैयार कराई जाए, ताकि उन्हें आर्थिक सहायता सुनिश्चित कराई जा सके। उन्होंने हिंसा से प्रभावित मृतकों के परिजनों को 10-10 लाख रुपए तथा गम्भीर रूप से घायलों को 50-50 हजार रुपए का ड्राफ्ट/चेक तत्काल उपलब्ध कराने के लिए भी कहा है। उन्होंने मण्डलायुक्त एवं जिलाधिकारी से इन आदेशों का कड़ाई से अनुपालन कराने के निर्देश दिए हैं।
उधर सहारनपुर के मण्डलायुक्त भुवनेश कुमार ने सभी एसडीएम व तहसीलदारों को निर्देश दिये हैं कि प्रभावित ग्रामीण क्षेत्रों में राहत सहायता शिविरों में खाद्य सामग्री युद्ध स्तर पर पहुंचाएं और यह सुनिश्चित कर लें कि विस्थापित लोगों को खाद्य सामग्री व अन्य आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति ठीक प्रकार से हो सके। उन्होंने यह भी निर्देश दिये कि तहसीलदार अपने-अपने क्षेत्रों मे सहायता शिविरों के लिए टेंट व कंबल आदि की व्यवस्था भी कराएं। आयुक्त ने कहा कि जो लोग अपने रिश्तेदारों व पड़ोस के ग्रामों मे पहुंच गये हैं, उनमें विश्वास पैदा कर वापस अपने घरों में लाने व सुरक्षित पहुचांने की व्यवस्था भी कराएं। उन्होंने कहा सहायता शिविरो में टेंट की व्यवस्था महिलाओं व पुरुषों के लिए अलग-अलग होनी चाहिए तथा खाद्य सामग्री के पैकेट किट बनवाकर शिविरों में वितरित कराएं।
मण्डलायुक्त व जिलाधिकारी मुजफ्फरनगर ने अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि ब्लाक व ग्रामों पर सभी एसडीएम व तहसीलदार बैठक कर वहां के गणमान्य लोगों, सदस्यों, लेखपालों, प्रधानों, पूर्व प्रधानों व कानूनगों के साथ बैठक कर जनपद मे शांति-व्यवस्था को सुदृढ़ करने का संदेश जनसामान्य तक पहुचाएं। उन्होंने यह भी कहा कि पहले उन ग्रामों को वरीयता दें, जो इन घटनाओं से प्रभावित हुए हैं और यहां के निवासी रिश्तेदारों के पास चले गये हैं। आयुक्त ने सभी एसडीएम को निर्देशित करते हुए कहा कि अपने अपने क्षेत्रों मे शांति समिति की बैठक आयोजित कराएं, ताकि आपस का मनमुटाव दूर हो सके। उन्होंने जिला पूर्ति अधिकारी को सख्त निर्देश दिये कि ग्रामों मे राशन वितरण की दुकानों को खुलवाएं व उसमें भरपूर मात्रा में राशन उपलब्ध कराएं तथा यह भी सुनिश्चित कराएं कि गैस सिलेण्डर आदि की कोई कमी नहीं होनी चाहिए।
राहत सामग्री वितरण के सम्बन्ध में बैठक कलेक्ट्रेट सभा कक्ष में आयोजित हुई। कल दी गई ढाई घण्टे की ढील के दौरान शांति व सौहार्दपूर्ण वातावरण को देखते हुए आज भी जिला प्रशासन ने दोपहर 12 बजे से सांय 5 बजे तक के लिए कर्फ्यू में ढील देने का निर्णय लिया, लेकिन बागवत जिले के कुछ गाँवों में आज भी पथराव होने की सूचनाएं हैं, जिससे कुछ स्थानों पर तनाव बरकरार है।

Leave a Reply