माता-पिता की ही जान के पीछे पड़े हैं कलयुगी पुत्र

तहसील दिवस में बेटों की शिकायत करते बुजुर्ग दंपत्ति
तहसील दिवस में बेटों की शिकायत करते बुजुर्ग दंपत्ति

क्या समय आ गया है, अब ऐसे भी लोग होने लगे हैं, जो अपने बूढ़े माता-पिता की सेवा करना तो दूर, उनका अपना ही खून उनकी जान के दुश्मन तक बनने लगे हैं। जी हाँ, तहसील दिवस में आज एक ऐसा ही प्रकरण सामने आया, जिसे डीएम ने एसएसपी के सुपुर्द कर दिया।
तहसील सदर में आयोजित तहसील दिवस में मंगलवार को जिलाधिकारी, एसएसपी अतुल सक्सेना एवं मुख्य विकास अधिकारी उदयराज सिंह सहित अन्य तमाम जिला स्तरीय अधिकारियों के साथ जन शिकायतें/समस्याओं को सुन रहे थे, तभी शहर के मोहल्ला कटरा ब्राह्मपुर निवासी सुभाष चन्द्र नामक व्यक्ति ने शिकायत की कि उसके तीनों पुत्र उसे तथा उसकी पत्नी को कभी भी जान से मार सकते हैं। डीएम ने पूरे मामले को समझने के बाद एसएसपी अतुल सक्सेना को सौंप दिया। एसएसपी ने एसएचओ कोतवाली को निर्देश दिए हैं कि परिवारी सदस्यों को कोतवाली बुलाकर बूढ़े और लाचार सुभाष चन्द्र की मदद करें।
तहसील दिवस में गत चार-पांच माह से एक साथ पांच सरकारी नलकूप तकनीकी एवं विद्युत दोष से खराब होने की शिकायत मिलने पर जिलाधिकारी ने विद्युत एवं नलकूप विभाग के अभियन्ताओं को तलब कर कड़ी नाराजगी जताते हुए तत्काल ठीक कराने की ताकीद करते हुए कहा कि भीषण गर्मी के अलावा मेंथा की फसलों को सिंचाई की आवश्यकता है, इसलिए सरकारी नलकूपों का शत-प्रतिशत चालू रखना नितांत आवश्यक है।
तहसील दिवस में विद्युत, शिक्षा, चकबन्दी, पुलिस नलकूप विभागों सहित विभिन्न पेंशन सम्बंधी कुल 55 शिकायतें प्राप्त हुईं, जिनमें ग्यारह शिकायतों को मौके पर निस्तारण कराया गया। इस अवसर पर जिला विकास अधिकारी प्रदीप कुमार सोम, डीआरडीए के परियोजना निदेशक रामरक्षपाल, जिला विकास अधिकारी प्रदीप कुमार सोम सहित अन्य जिला स्तरीय अधिकारी मौजूद रहे।

Leave a Reply