मथुरा के रिश्वतखोर डीआईओएस कन्हैया लाल वर्मा निलंबित

  • रिश्वतखोरी एवं भ्रष्टाचार में संलिप्त अधिकारियों/कर्मचारियों को किसी भी कीमत पर बख्शा नहीं जाएगा: मुख्यमंत्री
विजिलेंस टीम के शिकंजे में आये रिश्वतखोर कन्हैया लाल वर्मा
विजिलेंस टीम के शिकंजे में आये रिश्वतखोर कन्हैया लाल वर्मा
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने जनपद मथुरा के जिला विद्यालय निरीक्षक कन्हैया लाल वर्मा को 50 हजार रुपए रिश्वत के रूप में लेते हुए पकड़े जाने पर तात्कालिक प्रभाव से निलम्बित करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि रिश्वतखोरी एवं भ्रष्टाचार में संलिप्त अधिकारियों/कर्मचारियों को किसी भी कीमत पर बख्शा नहीं जाएगा। इस तरह के आचरण में संलिप्त अधिकारियों/कर्मचारियों के विरुद्ध सख्त से सख्त कार्यवाही की जाएगी।
यह जानकारी देते हुए एक सरकारी प्रवक्ता ने आज यहां बताया कि जिला विद्यालय निरीक्षक कन्हैया लाल वर्मा को कल सायं उनके कार्यालय से सतर्कता विभाग द्वारा 50 हजार रुपए की रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार किया था। श्री वर्मा को सेठ सोनीमल अग्रवाल इण्टर कॉलेज, बुखरारी, तहसील-छाता, जिला-मथुरा के प्रबन्धक अजय कुमार की शिकायत पर सतर्कता विभाग के डीएसपी बृजेश गौतम नेतृत्व में बलधारी सिंह, अभय सिंह, रामनिवास सिंह, प्रकाश सिंह और प्रमोद शंकर शुक्ला ने पकड़ा था। श्री वर्मा के विरुद्ध भ्रष्टाचार निरोधक अधिनियम, 1988 की धारा 7/13(1) सपठित धारा 13(2) के तहत गिरफ्तार किया गया। उनके विरुद्ध प्राथमिकी मथुरा कोतवाली में दिनांक 05 फरवरी, 2014 को मु0अ0सं0-92/2014 दर्ज कराई गई है तथा विवेचना की जा रही है।

Leave a Reply