बालकृष्ण की गिरफ्तारी से रामदेव घबराये

 

 

बालकृष्ण की गिरफ्तार के बाद देश भर से अपेक्षित जनसमर्थन न मिलने से रामदेव और उनके समर्थक मायूस नज़र आ रहे हैं। घबराए रामदेव ने इंदौर में यह बयान दिया कि वह चुनाव नहीं लड़ेंगे। उनके इस बयान का का अर्थ यही निकाला जा रहा है कि, यह बयान जनसमर्थन जुटाने का एक प्रयास है, क्योंकि उनकी राजनीति में जाने की घोषणा से बड़ी संख्या में उनके समर्थक दूर चले गए थे।

योग गुरु के नाम से चर्चित रामदेव के प्रमुख सहयोगी बालकृष्ण को शुक्रवार को हरिद्वार स्थित पतंजलि पीठ से सीबीआई ने गिरफ्तार कर लिया था। उन्हें आज देहरादून स्थित कोर्ट में पेश किया गया। नेपाली मूल के बालकृष्ण पर आरोप है कि, उन्होंने नागरिकता छिपाकर व फर्जी दस्तावेज़ों के आधार पर भारतीय पासपोर्ट हासिल किया। बालकृष्ण की गिरफ्तारी के बाद देश की जनता में अपेक्षा के अनुरूप बड़ी प्रतिक्रिया न होने से रामदेव घबरा गए हैं। उन्होने आज इंदौर में भीष्म प्रतीज्ञा ली कि, वह चुनाव नहीं लड़ेंगे पर तंत्र की बुराइयों के विरुद्ध लड़ते रहेंगे, जबकि इससे पहले रामदेव का कहना था कि, उनके लोकसभा चुनाव में उतरने का फैसला 9 अगस्त के आंदोलन में किया जाएगा।

 

Leave a Reply