प्रदेश सरकार किसानों की सच्ची हितैषी: अखिलेश यादव

  • केन्द्र सरकार ने चीनी आयात पर रोक न लगाकर किसानों को नुकसान पहुंचाने का काम किया: मुख्यमंत्री
 
  • मृतक डिप्टी जेलर के परिजनों को 20 लाख रुपये की आर्थिक सहायता व पत्नी को सरकारी नौकरी देने की घोषणा
मेरठ में उत्तर प्रदेश राज्य चीनी निगम की मोहिउद्दीनपुर शुगर मिल के पेराई सत्र का पूजन कर शुभारम्भ करते मुख्यमंत्री अखिलेश यादव
मेरठ में उत्तर प्रदेश राज्य चीनी निगम की मोहिउद्दीनपुर शुगर मिल के पेराई सत्र का पूजन कर शुभारम्भ करते मुख्यमंत्री अखिलेश यादव
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि सरकार किसानों की सच्ची हितैषी है। सरकार की प्राथमिकता है कि चीनी मिलें भी चलें और गन्ना किसानों को उनकी लागत का समुचित मूल्य भी मिले। सरकार ने निर्णय लिया कि गन्ना किसानों को किसी प्रकार का संकट न हो, चीनी मिलें भी चलें और चीनी के दाम भी कम रहें। केन्द्र सरकार ने चीनी के आयात पर रोक न लगाकर चीनी उद्योग पर चोट पहुंचाने का काम किया है। पिछली सरकार ने मामूली दामों पर चीनी मिलों को बेचने का काम किया था। इस प्रकरण की जांच सरकार द्वारा तथा माननीय हाईकोर्ट द्वारा की जा रही है।
श्री यादव ने वाराणसी में डिप्टी जेलर अनिल त्यागी की हत्या पर गहरा दुःख व्यक्त करते हुए हत्यारों को शीघ्र पकड़ने के निर्देश वरिष्ठ अधिकारियों को दिए। इसके साथ ही उन्होंने मृतक के परिजनों को 20 लाख रुपए की आर्थिक सहायता तथा मृतक की पत्नी को योग्यतानुसार सरकारी नौकरी देने की घोषणा भी की।
मुख्यमंत्री आज मेरठ में उत्तर प्रदेश राज्य चीनी निगम की मोहिउद्दीनपुर शुगर मिल के पेराई सत्र के शुभारम्भ के बाद किसानों को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि चुनाव से पूर्व घोषणा पत्र में किए गए सभी वादे सत्ता में आने के उपरान्त समाजवादी पार्टी की सरकार पूरा कर रही है। उन्होंने कहा कि सरकार ने अपनी नीतियों एवं कार्यक्रमों के माध्यम से जनता का पैसा जनता को वापस करने का काम शुरू कर दिया है। उन्होंने कहा कि मोहिउद्दीनपुर चीनी मिल को चलाने में 10 करोड़ रुपए की धनराशि व्यय हुई है। इससे मोहिउद्दीनपुर चीनी मिल के आस-पास क्षेत्र के हजारों किसानों को सीधा लाभ मिलेगा तथा बेरोजगार हुए मिल कर्मियों को पुनः रोजगार मिलेगा। उन्होंने कहा कि इस चीनी मिल की पेराई क्षमता 30 हजार कुन्तल प्रतिदिन है, जिसका इस क्षेत्र के किसान भरपूर लाभ उठा सकेंगे।
श्री यादव ने कहा किसान पर आज जो संकट दिखाई दे रहा है, वह केन्द्र सरकार की देन है। उन्होंने कहा कि केन्द्र सरकार की जिम्मेदारी थी कि वह चीनी के आयात पर रोक लगाती और देश में चीनी की कीमत को भी नियंत्रित रखती। उन्होंने कहा कि केन्द्र सरकार ने किसानों के मुद्दे पर कभी भी राज्य सरकार की मदद नहीं की। उत्तर प्रदेश और महाराष्ट्र देश की 60 प्रतिशत चीनी पैदा करते हैं और किसानों के करोड़ों परिवार गन्ने की खेती से जुड़े हैं। उन्होंने कहा कि चौधरी चरण सिंह को मानने वाले लोग तथा श्री मुलायम सिंह यादव के रास्ते पर चलने वाले लोग किसी भी स्तर पर किसानों को संकट में नहीं डालेंगे। सरकार द्वारा किसानों की हर स्तर पर मदद की जा रही है। इसी तरह समय पर खाद, समय पर बीज, किसानों की दुर्घटना बीमा योजना का लाभ भी प्रदेश में किसानों को बड़ी संख्या में उपलब्ध कराया जा रहा है। हर क्षेत्र में किसानों के लिए नई योजनाएं बनाई जा रही है। प्रदेश सरकार देश की पहली सरकार है जो किसानों को सिंचाई के लिए नहरों व सरकारी ट्यूबवेलों से मुफ्त पानी उपलब्ध करा रही है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि देश में आर्थिक संकट कांग्रेस की देन है। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार के कार्यों का आंकलन हो रहा है, तो ऐसे में कांग्रेस सरकार के 10 सालों का भी आंकलन होना चाहिए। उन्होंने कहा कि केन्द्र सरकार ने किसानों के हितों में कोई कार्य नहीं किया है। केन्द्र सरकार की गलत नीतियों के चलते जब विदेशी संस्थाओं से लोन लिया था तो डाॅलर की क्या कीमत थी जब लोन का भुगतान करना होगा तो डालर की कीमत क्या होगी। उन्होंने कहा कि किसानों की राजनीति करने वाले कुछ नेता कन्फ्यूज हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि वे नेता लड़े तो बीजेपी के साथ, परन्तु मंत्री कांग्रेस सरकार के साथ बने हुए हैं। वे बात तो किसानों की करते हैं, लेकिन उनके विभाग से किसानों का कोई सरोकार नहीं है।
अखिलेश यादव ने कहा कि सरकार जनता के धन की बर्बादी नहीं होने देगी। उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा कन्या विद्या धन, बेरोजगारी भत्ते तथा निःशुल्क लैपटाप का वितरण किया जा रहा है। जो दल लैपटाप वितरण की बुराई करते थे, वे चुनाव वाले राज्यों में अपने घोषणा पत्रों में लैपटाप वितरण किए जाने का वादा कर रहे हैं। इसमें यह दल चालाकी कर रहे हैं, यहां हम गरीब परिवार के बेटे-बेटियों को लैपटाप दे रहे हैं, जबकि विरोधी दल मेधावी छात्रों के बीच लैपटाप वितरण किए जाने की बात करते हैं। उन्होंने कहा कि जब हाथों में लैपटाप होगा, तो स्वयं ही छात्र सीख कर मेधावी हो जाएंगे। उन्होंने कहा कि विरोधी दल समाजवादी पार्टी पर पिछड़ा व अंग्रेजी विरोधी होने का आरोप लगाते हैं। उन्होंने कहा कि नई टेक्नोलाजी वाले लैपटाप छात्रों को बांटे गए हैं, जिसका भरपूर फायदा दूर-दराज के गांव-गली के बच्चे उठा रहे हैं। उन्होंने कहा कि निःशुल्क लैपटाप वितरण योजना के माध्यम से सरकार ने खजाने का पैसा जनता को लौटाने का काम किया है। उन्होंने पुनः बल देते हुए इंगित किया कि अपनी योजनाओं एवं नीतियों के माध्यम से प्रदेश सरकार जनता को उसी का धन दे रही है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार ने किसानों के हित में काम किया है और आगे भी करती रहेगी। उन्होंने कहा कि इस चीनी मिल के चलने से क्षेत्र के किसानों को राहत मिलेगी। प्रदेश सरकार ने किसी भी योजना को लागू करने में कोई भेदभाव नहीं किया है। किसानों की कोई जाति व धर्म नहीं होता किसान, किसान होता है। सरकार हमेशा गरीब व किसान के पक्ष में बिना किसी भेदभाव के काम करती रहेगी। प्रदेश सरकार साम्प्रदायिकता से कोई समझौता नहीं करेगी। सरकार साम्प्रदायिक ताकतों से निपटने के लिए पूरी सजग है और सख्ती से काम करेगी। हमंे अपने कामों व योजनाओं के सहारे ही जनता के बीच में पहुंचना है। उन्होंने कहा कि हमारे सामने दो चुनौतियां हैं, पहली, विकास में प्रदेश पिछड़ न जाए, दूसरी, साम्प्रदायिक ताकतें प्रदेश में सिर न उठा सकें। इस दिशा में हमें भरोसा है कि ऐसी ताकतों को रोकने के लिए सरकार पूरी तरह सजग है।
श्री यादव ने इस अवसर पर मेरठ-बागपत मार्ग के हिण्डन नदी पर पड़ने वाले पुल के चौड़ीकरण, मेरठ-करनाल के बीच फोर लेन मार्ग को शीघ्र शुरू करने, कैनाल रोड का निर्माण भी शीघ्र शुरू करने तथा इस मार्ग से मेरठ को फोर व छः लेन से जोडने, खरखौदा-छज्जूपुर से कलंजरी मार्ग का निर्माण, खतौली-मोहिउद्दीनपुर के सभी सम्पर्क मार्गों का निर्माण किये जाने की घोषणा की। उन्होंने महिला डिग्री कालेज के विस्तार को अगले बजट में रखे जाने की भी घोषणा की।
मुख्यमंत्री ने पत्रकार वार्ता के दौरान कहा कि मेरठ की हवाई पटटी के लिए भूमि उपलब्ध करा दी गयी है तथा पूर्व में की गयी सभी घोषणाएं शीघ्र पूरी होगी। उन्होंने वाराणसी में बदमाशों की गोली से मारे गए डिप्टी जेलर श्री अनिल त्यागी के परिजनों से हवाई पटटी पर मिलकर सांत्वना दी तथा वरिष्ठ अधिकारियों को बदमाशों को शीघ्र गिरफ्तार करने के निर्देश दिए। उन्होंने मृतक के परिजनों को 20 लाख रुपए की आर्थिक सहायता तथा मृतक की पत्नी को योग्यतानुसार सरकारी नौकरी देने की भी घोषणा की।
इस अवसर पर कारागार मंत्री राजेन्द्र चौधरी, श्रम एवं सेवायोजन राज्य मंत्री शाहिद मंजूर, मंत्री का दर्जा प्राप्त वीरेन्द्र सिंह व साहब सिंह, विधायक गुलाम मोहम्मद, सरोजनी अग्रवाल, प्रभु दयाल वाल्मिकी सहित वरिष्ठ प्रशासनिक एवं पुलिस अधिकारियों सहित जनप्रतिनिधि मौजूद थे।

Leave a Reply