पति के शक और सनकीपन की क्या सीमा हो सकती है?

किसी पति के शक और सनकीपन की की सीमा हो सकती है? इंदौर में घटी यह घटना आपकी हर सोच की सीमा से परे है। एक पति ने अपनी पत्नी के गुप्तांग पर ताला जड़ दिया। अमानवीयता की सारी हदें पार करते हुए उसने एक ताला बनवाया और उसे पत्नी के गुप्तांग पर लगा दिया। काम पर जाने के पहले वह ताला लगा देता और वापस आकर खोल देता। इस ताले की दो चाबियाँ थीं। वह दोनों ही चाबियाँ अपने पास रखता था। चार साल लंबी इस यातना को सहने के बाद आखिर तंग आकर महिला ने जहर खा लिया। जब उसे मरणासन्न हालत में अस्पताल लाया गया तो इस दरिंदगी का खुलासा हुआ। महिला के जननांग पर लगे ताले को देख कर पुलिस अधिकारी और चिकित्सक सभी दंग रह गए। पति का नाम सोहम है और वह एक मोटर गैरज में काम करता है। सीएसपी राजेश रघुवंशी ने बताया कि मामले की जानकारी मिलते ही सोहन को हिरासत में लेकर उससे चाबी जब्त कर डॉक्टरों को दी गई। चाबी मिलने के बाद डॉक्टरों ने ताला खोला। डॉक्टर द्वारा जांच रिपोर्ट सौंपे जाने के बाद पति के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

Leave a Reply