नशे की लत से धन, तन दोनों नष्ट होते हैं: डीएम

कलेक्ट्रेट में स्वापक औषधि एवं अवैध व्यापार निषेध दिवस पर आयोजित गोष्ठी में अधिकारीगण
कलेक्ट्रेट में स्वापक औषधि एवं अवैध व्यापार निषेध दिवस पर आयोजित गोष्ठी में अधिकारीगण

नशे की लत एक अभिशाप है, जिससे धन और तन दोनों नष्ट होकर पूरा परिवार गरीबी रेखा से और नीचे तक चला जाता है और धीरे-धीरे भुखमरी की नौबत आ जाती है।
बदायूं के जिलाधिकारी शंभूनाथ ने कलेक्ट्रेट स्थित सभागार में गुरूवार को स्वापक औषधि एवं अवैध व्यापार निषेध दिवस के अवसर पर आयोजित गोष्ठी में उक्त विचार व्यक्त करते हुए कहा कि गरीबों को गरीबी रेखा से ऊपर लाने हेतु शासन द्वारा तमाम योजनाएं चलाई जा रही हैं, परन्तु नशे की लत के कारण उससे अधिक संख्या में परिवार गरीबी रेखा से नीचे चले जाते हैं। उन्होंने कहा कि नशा समाज में फैली ऐसी विसंगति है, जिसको बिना जन सहयोग के खत्म नहीं किया जा सकता। उन्होंने कहा कि नशे की लत के कारण ही अपराधों को भी बढ़ावा मिलता है।
जिलाधिकारी ने नशा मुक्ति हेतु जागरूकता कार्यक्रम चलाने के निर्देश देते हुए कहा कि प्रत्येक ब्लाक स्तर पर ग्राम प्रधानों आम नागरिकों को आमत्रित कर गोष्ठी आयोजित की जाएं। उन्होंने सभी अधिकारियों को भी निर्देश दिए हैं कि वह अपने-अपने कार्यालयों में अधिकारियों/कर्मचारियों के साथ नशा मुक्ति पर गोष्ठी आयोजित कर नशे से होने वाले नुकसान के प्रति जागरूक करें।
अपर जिलाधिकारी प्रशासन मनोज कुमार ने कहा कि माता पिता बच्चों को बेहतर संस्कार दें और किशोर अवस्था में उनके ऊपर नज़र रखते हुए अच्छाई और बुराई के सम्बन्ध में बताते रहें, तो काफी परिवर्तन लाया जा सकता है। अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व राजेन्द्र प्रसाद यादव ने कहा कि किसी भी नशे की लत को छुड़ाने अथवा इससे दूर रहने हेतु जागरूकता फैलाना किसी व्यक्ति विशेष की न होकर सभी का दायित्व है कि इसके प्रति जन चेतना लाई जाए। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. एसपी अग्रवाल ने कहा कि कुछ लोग दवाओं का दुर्पयोग करके नशे के आदी हो जाते हैं। नशा करने से धन का अपव्यय होता है, वहीं परिवार पर भी बुरा असर पड़ता है, इसलिए व्यक्ति को इससे दूर ही रहना चाहिए।
जिला आबकारी अधिकारी एमएल द्विवेदी ने बताया कि दस किलो अफीम, एक किलो हीरोइन, एक किलो कोडीन, पांच सौ ग्राम कोकीन, एक किलो पीवेन, बीस ग्राम हशीश, पांच सौ ग्राम एलएसडी सहित कुल 11 ऐसे मादक पदार्थ हैं, जिनकी निश्चित मात्रा में पकड़े जाने पर मृत्यु दण्ड तक दिए जाने का प्रावधान है।
गोष्ठी में सीओ सिटी सत्यसेन यादव, जिला विकास अधिकारी प्रदीप कुमार सोम, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी कृपा शंकर वर्मा जिला समाज कल्याण अधिकारी कुसुम कुमरा सहित विभिन्न समाज सेवी संगठनों के पदाधिकारी मौजूद रहे। गोष्ठी का संचालन नेहरू युवा केन्द्र के ब्रह्मदेव गुता ने किया।

Leave a Reply