नरेंद्र मोदी 26 मई को लेंगे प्रधानमंत्री पद की शपथ

संसद भवन की सीढ़ियों पर मत्था टेकते भावी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
संसद भवन की सीढ़ियों पर मत्था टेकते भावी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

भारतीय राजनीति में ही नहीं, बल्कि विश्व स्तर पर मंगलवार का दिन हमेशा याद रखा जायेगा। आज नरेंद्र मोदी को भारतीय जनता पार्टी और एनडीए की ओर से संसदीय दल का नेता चुना गया। संसद भवन के सेंट्रल हॉल में आयोजित ऐतिहासिक बैठक में पार्टी के बुजुर्ग नेता लालकृष्‍ण आडवाणी ने संसदीय दल के नेता के दायित्व के लिए नरेंद्र मोदी के नाम का प्रस्ताव रखा, तो सुषमा स्वराज, मुरली मनोहर जोशी, नितिन गडकरी, मुख्तार अब्बास नकवी, अरुण जेटली, कड़िया मुंडा, गोपीनाथ मुंडे, रविशंकर प्रसाद और वेंकैया नायडु ने ख़ुशी-ख़ुशी अनुमोदित कर दिया और फिर उन्हें सर्वसम्मति से भाजपा और एनडीए के संसदीय दल का नेता चुन लिया गया। इस मौके पर भावुक हुए लालकृष्ण आडवाणी ने 1947 की इमरजेंसी को याद करते कहा कि आज मेरी आंखों में आंसू आ गये।

इसके बाद भावुक अंदाज़ में नरेंद्र मोदी ने पार्टी अध्यक्ष राजनाथ सिंह और लालकृष्ण आडवाणी का आभार व्यक्त किया। पूर्व प्रधानमन्त्री अटल बिहारी वाजपेयी का स्मरण करते हुए उन्होंने कहा कि वे यहां होते तो और भी अच्छा होता। उन्होंने कहा कि 13 सितंबर से 10 मई तक उन्होंने कार्यकर्ता के रूप में परिश्रम यज्ञ किया, जिसका फल है कि हम सब आज यहां हैं। बोले- मैं बड़ा इसलिए दिखता हूं कि वरिष्ठों ने मुझे अपने कंधे पर बैठाया है, साथ ही कहा कि दुनिया के इस सबसे बड़े लोकतंत्र की यही ताकत है कि मेरे जैसा गरीब परिवार से आया हुआ व्यक्ति यहां तक पहुंचा है। भावुक अंदाज़ में ही बोले कि भारत मेरी मां है, उसी तरह पार्टी भी मेरी मां है और मां की सेवा ‘कृपा’ नहीं हो सकती। बोले- अपने लिए नहीं, बल्कि देश के लिए जीयेंगे। आगे कहा कि 2019 में मैं अपना रिपोर्ट कार्ड आपके सामने रखूंगा। इससे पहले नरेद्र मोदी ने उस वक्त सभी का हृदय जीत लिया, जब उन्होंने संसद के मुख्य द्वार की सीढ़ियों पर पर मत्था टेका।

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजनाथ सिंह ने उस क्षण को ऐतिहासिक बताते कहा कि आजादी के इतिहास में पहली बार ऐसा हुआ है कि कांग्रेस के अलावा किसी अन्य दल को पूर्ण बहुमत मिला है। बोले- कश्मीर से लेकर कन्या कुमारी तक हमारे संसद चुने गए हैं, जिसका हमें बेहद गर्व है। इसके बाद ढाई बजे लालकृष्ण आडवाणी के नेतृत्व में एनडीए नेताओं का एक प्रतिनिधिमंडल राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी से मिला और सरकार बनाने का दावा पेश किया। नरेंद्र मोदी 26 मई को राष्ट्रपति प्रांगण में प्रधानमंत्री पद की शपथ लेंगे।

Leave a Reply