दंगे में मृतकों के आश्रित को नौकरी दी जायेगी : मुख्यमंत्री

  • दंगों के दोषियों को राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (एन.एस.ए.) में निरुद्ध किया जायेगा : अखिलेश यादव
  • दंगे में जले मकानों की मरम्मत के साथ ही सरकारी योजनाओं का लाभ भी पीडि़तों को मिलेगा 
दिवंगत पत्रकार राजेश वर्मा के परिजनों को सांत्वना देते मुख्यमंत्री अखिलेश यादव
दिवंगत पत्रकार राजेश वर्मा के परिजनों को सांत्वना देते मुख्यमंत्री अखिलेश यादव
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा है कि मुजफ्फरनगर दंगों में प्रभावित मृतक परिवार के एक-एक सदस्य को सरकारी नौकरी देने के साथ ही जले मकानों की मरम्मत तथा पीड़ित परिवारों को सरकारी योजनाओं का लाभ दिया जायेगा। दंगों के लिए दोषी लोगों के विरुद्ध राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (एनएसए) के तहत कार्यवाही की जायेगी। उन्होंने कहा कि मुजफ्फरनगर के ग्रामीण क्षेत्रों व आस-पास के क्षेत्रों में हुर्इ यह घटना अत्यन्त दुर्भाग्यपूर्ण है, इसकी जितनी निंदा की जाये उतनी कम है। उन्होंने कहा कि दंगों के लिए जिम्मेदार अधिकारियों एव कर्मचारियों की जांच कराकर उनके विरुद्ध भी सख्त कार्यवाही की जायेगी। उन्होंने कहा कि जिन राजनैतिक दलों ने दंगे भड़काने के लिए सीडी व एसएमएस भेजे हैं, उनका यह कृत्य राष्ट्रद्रोह से कम नहीं है।
मुख्यमंत्री ने आज मुजफ्फरनगर तथा शामली जनपद के दंगा पीडि़त क्षेत्रों का सघन दौरा किया। साथ ही, उन्होंने राहत शिविरों का दौरा कर पीड़ित परिवारों के दु:ख-दर्द को जाना। उन्होंने बसीकलां के मदरसे में चल रहे राहत शिविर में पीडि़त परिवारों से मुलाकात की और उन्हें भरोसा दिलाया कि उनके साथ न्याय होगा। उन्होंने कहा कि दंगों के लिए दोषी, चाहे कितने ही बड़े कद का व्यक्ति क्यों न हो, उसके विरुद्ध सख्त से सख्त कार्यवाही की जायेगी। दोषियों को चिनिहत कर उन्हें राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (एनएसए) में निरुद्ध किया जायेगा। उन्होंने कहा कि राहत शिविरों में रह रहे पीड़ित  परिवारों में को सांत्वना दी और इस घटना पर दु:ख व्यक्त किया। उन्होंने बुजुर्ग एवं नौजवानों का आहवान किया कि वे इस दु:ख की घड़ी में संयम से काम लें तथा आम जनता में आपसी भार्इचारा कायम करने के लिए काम करें।
श्री यादव ने कहा कि दंगे के दौरान जिन लोगों के घर जल गये हैं, उनकी मरम्मत सरकार कराएगी। आवासहीन लोगों को लोहिया ग्राम आवास योजना तथा अन्य लाभकारी योजनाओं से जोड़ा जाएगा। मुख्यमंत्री ने कवाल गांव पहुंचकर मृतक शाहनवाज तथा मलकपुर में मृतक गौरव व सचिन के परिवारजनों से मिलकर ढाढ़स बंधाया तथा दोषियों को सजा दिलाये जाने का आश्वासन भी दिया। उन्होंने ग्रामीणों से अपील की कि आपसी मेल-मिलाप, भार्इचारा बनाये रखने के लिए एक जुट होकर काम करें। उन्होंने कहा कि सरकार हर उस व्यकित के साथ है, जो आपसी भार्इचारा व सदभाव बढ़ाने की दिशा में काम करेगा।
मुख्यमंत्री ने शामली जनपद के कांधला में स्थित र्इदगाह राहत कैम्प में भी पीड़ितों से भेंट कर उन्हें हर प्रकार की मदद का आश्वासन दिया। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि राहत कैम्प में किसी प्रकार की खाध सामग्री, दूध तथा दूसरी आवश्यक वस्तुओं की कमी न रहने पाये। उन्होंने कहा कि बीमार लोगों को समुचित चिकित्सा सुविधा उपलब्ध करार्इ जाए। मुख्यमंत्री ने कांधला में इस्लामिक शिक्षा के विश्व विख्यात विद्वान मोहम्मद हजरत इफ्तेखार हसन से मिल कर दोनों पक्षों के बीच जो खार्इ पैदा हो गयी है, उसे भरने तथा आपसी भरोसा बढ़ाने की दिशा में सार्थक पहल करने की अपील की।
श्री यादव ने दंगों के समाचार की कवरेज करने के दौरान दिवंगत हुए पत्रकार राजेश वर्मा के परिवारजनों से मिलकर उनको सांत्वना दी और आश्वस्त किया कि सरकार उनके साथ है। उन्होंने कहा कि राजेश वर्मा के परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी दी जायेगी। उनके परिवार को 15 लाख रुपए की आर्थिक सहायता पूर्व में ही उपलब्ध करार्इ जा चुकी है।
मुजफ्फरनगर पुलिस लाइन में पत्रकारों से वार्ता के दौरान मुख्यमंत्री ने कहा कि दंगों की जांच के लिए हार्इकोर्ट के सेवानिवृत्त न्यायाधीश की अध्यक्षता में एक जांच कमेटी बना दी गयी है, जो शीध्र ही अपनी रिपोर्ट सरकार को पेश करेगी। उन्होंने कहा कि दोषियों के विरुद्ध ऐसी कठोरतम कार्यवाही की जायेगी कि वे भविष्य में फिर ऐसी घटना के बारे में कभी नहीं सोचेंगे। उन्होंने अधिकारियों को कड़े निर्देश दिये कि शांति समितियां बनाकर उन्हें क्रियाशील किया जाए तथा इन समितियों में साफ-सुथरी छवि के साथ ही बुद्धिजीवी, बुजुर्गों को शामिल किया जाए। उन्होंने कहा कि अब तक इन दंगों में 39 लोगों के मरने की पुषिट हो चुकी है और पांच संदिग्ध है, जिनकी जांच करार्इ जा रही है। उन्होंने जिला व पुलिस प्रशासन को निर्देश दिये कि माहौल खराब करने वाली सीडी व एसएमएस करने वालों पर पैनी निगाह रखे, ताकि ऐसे लोग अपने नापाक इरादों में कामयाब न हो सकें।
श्री यादव ने एक सवाल के उत्तर में कहा कि कवाल के जिन बच्चों को स्कूल जाने में दिक्कत हो रही है, उनको पूरी सुरक्षा प्रदान की जायेगी तथा स्कूल भेजने का इंतजाम भी किया जायेगा। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे राहत शिविरों में जाकर पीडि़तों से जानकारी एकत्रित करें तथा जो पीडि़त प्रथम सूचना रिपोर्ट दर्ज कराना चाहते हैं, उनकी रिपोर्ट तत्काल दर्ज करार्इ जाए। उन्होंने लोगों से विशेषकर मीडिया से अनुरोध किया कि वे अफवाहों पर ध्यान न दें। उन्होंने अफवाह फैलाने वालों को भी चिन्हित कर दणिडत करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि प्रतिबंधित बोर के हथियार रखने वालों पर भी सख्त कार्रवार्इ की जाए। उन्होंने कहा कि जिन प्रभावित क्षेत्रों में वे समय की कमी के चलते नहीं जा पाए हैं, उन क्षेत्रों में भी अधिकारियों को प्रभावी कदम उठाये जाने के निर्देश दे दिए गए हैं।
मुख्यमंत्री के भ्रमण के दौरान खाध एवं रसद व कारागार मंत्री राजेन्द्र चौधरी विशेष रूप से उपस्थित रहे। इस अवसर पर कांधला में सांसद शगुफ्ता हसन तथा मुजफ्फरनगर में संसदीय कार्य, मुस्लिम वक्फ एवं नगर विकास मंत्री चितरंजन स्वरूप सहित शामली व मुजफ्फरनगर जनपदों के जनप्रतिनिधि, मण्डलायुक्त भुवनेश कुमार, डीआर्इजी मुथा अशोक जैन, जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा सहित तमाम वरिष्ठ प्रशासनिक व पुलिस के आला अफसर मौजूद रहे।

Leave a Reply