डीएम और सीडीओ मुर्दाबाद के नारों से घबरा गये मंडलायुक्त

  • गांव, कोतवाली तथा तहसील में मिली कमियों में मण्डलायुक्त नें दी सुधार की मोहलत
शिकायत सुनते मंडलायुक्त बरेली डॉ. गुरदीप सिंह शिकायत सुनते मंडलायुक्त बरेली डॉ. गुरदीप सिंह
शिकायत सुनते मंडलायुक्त बरेली डॉ. गुरदीप सिंह

बदायूं जिले के दौरे पर आये बरेली मण्डल के आयुक्त डा. गुरदीप सिंह आंदोलनरत मनरेगा कर्मियों की दहशत के चलते बैठक निरस्त कर दी, लेकिन उन्होंने लोहिया ग्राम सैंजनी का दौरा किया और यहाँ सीसी रोड का निर्माण कार्य घटिया पाए जाने सहित तहसील सदर में खतौनियां लेखपालों को न देने का कार्य माह जून से अब तक पूरा न किए जाने तथा कोतवाली में कांस्टेविल को अपनी बीट की जानकारी न होने पर नाराजगी जताते हुए सुधार की मोहलत दी है।
मण्डलायुक्त श्री सिंह ने जिलाधिकारी, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अतुल सक्सेना एवं सीडीओ उदयराज सिंह के साथ बुद्धवार को उझानी ब्लाक के लोहिया ग्राम सैंजनी का स्थलीय निरीक्षण, तहसील सदर एवं स्थानीय कोतवाली का भी निरीक्षण किया। आयुक्त लोहिया ग्राम सैंजनी पहुँच कर जनता से रूबरू हुए और छात्रवृत्ति, मध्यान्ह भोजन, ड्रेस एवं निःशुल्क पाठ्य पुस्तकों के वितरण सहित जननी सुरक्षा योजना, गत वर्ष के गन्ने के भुगतान, विद्युत आपूर्ति, आशा, एएनएम तथा शिक्षकों की उपस्थिति, विभिन्न पेंशन प्राप्ति के सम्बन्ध में विस्तृत पूछताछ की। मण्डलायुक्त ने जब गाँव का भ्रमण किया, तो आरईएस विभाग द्वारा बनाई गई सीसी रोड़ की खराब गुणवत्ता पर कड़ी नाराजगी जताई और भाविष्य में गुणवत्ता पर विशेष ध्यान देने के निर्देश दिए। आयुक्त ने स्कूल के बच्चों को मध्यान्ह भोजन खाते समय चैक भी किया और ग्रामीणों की शिकायतों को भी सुना।
कोतवाली पंहुचकर सर्व प्रथम आयुक्त ने मालखाने का मुआयना कर विभिन्न अभिलेखों का निरीक्षण किया, तो विशेष सूचनाएं अफवाहों को दर्ज करने सम्बंधी कोई रिकार्ड नहीं पाए जाने पर निर्देश दिए कि अपराधियों के आने तथा कोई ऐसी अफवाह जो कानून एवं शांति व्यवस्था को दृष्टिगत रखते हुए भविष्य में उपयोगी साबित हो, उनको पंजिका में अवश्य दर्ज कराया जाए। कांस्टेविलों को अपने सम्मुख तलब कर उनको आवंटित बीट के सम्बन्ध में आयुक्त ने पूछताछ की, तो अमरनाथ नामक कांस्टेविल को अपनी बीट की सही जानकारी ही नहीं थी। मण्डलायुक्त ने निर्देश दिए कि आवंटित बीट के सम्बन्ध में कांस्टेविलों को अवश्य जानकारी कराई जाए।
तहसील सदर में मण्डलायुक्त ने सबसे पहले रिकार्ड रूम का मुआयना किया और गत जून से चल रहे खतौनियों के कार्य की जानकारी हासिल की तो तहसीलदार सदर कोई संतोषजनक उत्तर ही नहीं दे पाए, जिस पर आयुक्त ने गहरा असंतोष व्यक्त किया और निर्देश दिए कि यह कार्य प्राथमिकता के आधार पर पूरा किया जाए। कम्प्यूटर्स रूम में भी आयुक्त संतुष्ट नहीं दिखे और उप जिलाधिकारी सदर को इसमें सुधार के निर्देश दिए। तत्पश्चात उन्होंने तहसील के विभिन्न कक्षों में जाकर निरीक्षण करने के साथ ही अभिलेखों का भी मुआयना किया और वसूली अमीन को अपने सम्मुख तलब कर राजस्व वसूली की जानकारी हासिल की। लोक निर्माण विभाग के निरीक्षण भवन तथा स्थानीय कोतवाली में गॉड आफ ऑनर की सलामी दी गई तथा अधिकारियों ने पुष्पगुच्छ भेंट कर मण्डलायुक्त का स्वागत किया। इसके बाद उन्हें विकास भवन में समस्त जिला स्तरीय अधिकारीयों के साथ बैठक करनी थी, लेकिन विकास भवन परिसर में दो दिनों से धरने पर बैठे मनरेगा कर्मियों के आक्रोश के चलते वह विकास भवन में भी नहीं आये और दौरा करते हुए ग्रामीण क्षेत्र से ही बरेली चले गये। मानदेय न मिलने के कारण मनरेगा में कार्यरत एपीओ और समन्वयक आदि कर्मचारी धरने पर बैठे हैं, जो लाउडस्पीकर लगा कर डीएम मुर्दाबाद और सीडीओ मुर्दाबाद के नारे लगाते हुए मानदेय देने की मांग कर रहे हैं।

Leave a Reply