जौनपुर और बदायूं में शीघ्र मेडिकल कॉलेज खुलेंगे: मुख्यमंत्री

एराज़ लखनऊ मेडिकल कालेज के वार्षिक दिवस समारोह को मुख्य अतिथि के रूप में बोलते मुख्यमंत्री अखिलेश यादव
एराज़ लखनऊ मेडिकल कालेज के वार्षिक दिवस समारोह को मुख्य अतिथि के रूप में बोलते मुख्यमंत्री अखिलेश यादव
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि जौनपुर में मेडिकल कालेज खोलने की स्वीकृति प्रदान की गई है, जिसमें गरीबों के इलाज के साथ-साथ चिकित्सा शिक्षा भी उपलब्ध होगी। उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र की तर्ज पर केन्द्रीय सरकार से धनराशि की मांग की गई है, जिससे सहकारी बैंकों की स्थिति में सुधार होगा। उन्होंने कहा कि समाजवादी सरकार पूर्ववर्ती सरकार द्वारा प्रदेश में लाई गई खराब स्थिति को पटरी पर लाने का कार्य कर रही है।
मुख्यमंत्री आज जौनपुर में भूमि विकास एवं जल संसाधन राज्यमंत्री जगदीश सोनकर के यहां आयोजित मांगलिक कार्यक्रम में शिरकत करने के बाद पत्रकारों से वार्ता कर रहे थे। उन्होंने कहा कि चीनी मिलों को 280 रुपए प्रति कुन्तल की दर से गन्ना क्रय करने की स्वीकृति प्रदान की गई है। साथ ही, मेरठ की चीनी मिल को प्रदेश सरकार ने 10 करोड़ रुपए की लागत से चालू करा दिया है।
श्री यादव ने कहा कि मुजफ्फरनगर व आस-पास के जनपदों में हुई साम्प्रदायिक हिंसा के घायलों को रानी लक्ष्मीबाई पेंशन योजना से लाभान्वित किए जाने का निर्णय लिया गया है। उन्होंने कहा कि 05 लाख रुपए प्रति परिवार की दर से मकान बनाने के लिए शीघ्र ही धन उपलब्ध करा दिया जाएगा। इसके लिए 90 करोड़ रुपए की व्यवस्था की जा चुकी है। उन्होंने आश्वासन दिया कि ट्रैफिक जाम समस्या से निजात दिलाने के लिए कलीचाबाद में गोमती नदी पर एक और पुल की मांग को विचार-विमर्श कर पूरा किया जाएगा। इस अवसर पर कैबिनेट मंत्री पारस नाथ यादव, राज्यमंत्री सुरेन्द्र सिंह पटेल सहित अन्य जनप्रतिनिधिगण एवं शासन व प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे।

मुख्यमंत्री ने चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में शोध को बढ़ावा दिए जाने पर बल दिया

एराज़ लखनऊ मेडिकल कालेज के वार्षिक दिवस समारोह को मुख्य अतिथि के रूप में बोलते मुख्यमंत्री अखिलेश यादव
एराज़ लखनऊ मेडिकल कालेज के वार्षिक दिवस समारोह को मुख्य अतिथि के रूप में बोलते मुख्यमंत्री अखिलेश यादव
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में शोध को बढ़ावा दिए जाने पर बल दिया है। उन्होंने कहा कि अनुसंधान तथा प्रशिक्षण के माध्यम से विद्यार्थियों के ज्ञान के स्तर में इजाफा किया जा सकता है। उन्होंने उम्मीद जताई कि शोध एवं नवीनतम जानकारियों का आदान-प्रदान चिकित्सा शिक्षा से जुडे़ संस्थानों को विश्वस्तरीय बनाने में मददगार साबित होगा।
मुख्यमंत्री आज यहां एराज़ लखनऊ मेडिकल कालेज के वार्षिक दिवस समारोह को बतौर मुख्य अतिथि सम्बोधित कर रहे थे। इस मौके पर उन्होंने मेडिकल कालेज के श्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले छात्र-छात्राओं को पदक प्रदान कर सम्मानित किया। मुख्यमंत्री ने उर्दू दैनिक आग के सम्पादक अहमद इब्राहीम अल्वी को भी सम्मानित किया, जिन्हें पत्रकारिता के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने के लिए भारतीय प्रेस परिषद द्वारा गत 16 नवम्बर को राष्ट्रीय पुरस्कार प्रदान किया गया था। इस मौके पर मुख्यमंत्री को संस्थान की ओर से मुख्यमंत्री पीडि़त सहायता कोष हेतु 05 लाख रुपए की धनराशि का चेक भी प्रदान किया गया।
श्री यादव ने कहा कि अपनी स्थापना के बाद इस मेडिकल कालेज ने काफी तरक्की की है। इसके लिए संस्थान से जुड़े सभी लोग बधाई के पात्र हैं। उन्होंने कहा कि सफलता प्राप्त करने के लिए कठिन परिश्रम की जरूरत होती है। जो व्यक्ति मेहनत करता है, वह निश्चित तौर पर कामयाब होता है। उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि यहां के छात्र-छात्राएं अपनी मेहनत व योग्यता से सफलता हासिल करेंगे और देश-प्रदेश व समाज की सेवा करेंगे। मेडिकल कालेज को विश्वविद्यालय का दर्जा दिए जाने की मांग के संबंध में मुख्यमंत्री ने कहा कि संस्थान द्वारा विश्वविद्यालय के लिए आवश्यक सभी मापदण्डों को पूरा किए जाने की स्थिति में, राज्य सरकार इस दिशा में पूरा सहयोग प्रदान करेगी।
मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछली समाजवादी सरकार ने प्रदेश में निजी मेडिकल व इंजीनियरिंग कालेजों की स्थापना के लिए सभी आवश्यक कार्यवाही की। इसके परिणामस्वरूप राज्य के विभिन्न क्षेत्रों में मेडिकल व इंजीनियरिंग कालेजों की स्थापना संभव हो सकी। आज स्थिति यह है कि अन्य राज्यों के छात्र यहां उच्च शिक्षा हासिल करने के लिए आते हैं, जबकि पूर्व में उत्तर प्रदेश के छात्रों को दूसरे प्रदेशों में इंजीनियरिंग व मेडिकल की पढ़ाई करने के लिए जाना पड़ता था।
चिकित्सा शिक्षा के क्षेत्र में समाजवादी सरकार की उपलब्धियों का उल्लेख करते हुए श्री यादव ने कहा कि पिछले डेढ़ वर्ष के दौरान राजकीय मेडिकल कालेजों में एम.बी.बी.एस. की पढ़ाई के लिए 500 सीटों की बढ़ोत्तरी हुई है। कन्नौज, आजमगढ़ तथा जालौन में 03 नये मेडिकल कालेज प्रारम्भ किए गए। राज्य सरकार ने जनपद बदायूं और जौनपुर में राजकीय मेडिकल कालेज स्थापित करने का निर्णय भी लिया है। उन्होंने कहा कि चिकित्सकों व पैरामेडिकल स्टाफ की कमी को दूर करने के लिए राज्य सरकार प्रयास कर रही है। इस दिशा में निजी क्षेत्र के संस्थान भी महत्वपूर्ण योगदान दे सकते हैं।
मेडिकल कालेज के प्रधानाचार्य डा. (ब्रिगेडियर) टी. प्रभाकर ने अपने सम्बोधन में संस्थान की उपलब्धियों पर प्रकाश डाला। अतिथियों का स्वागत फ़रज़ाना मेहदी ने किया। धन्यवाद ज्ञापन एरा एजुकेशन ट्रस्ट के ट्रस्टी कर्नल एस.एम.एच. रिज़वी ने किया। इस अवसर पर पूर्व राज्यपाल सैय्यद सिब्ते रज़ी, पूर्व मंत्री डा. अशोक बाजपेयी तथा डा. अम्मार रिज़वी, प्रमुख सचिव चिकित्सा शिक्षा जे.पी. शर्मा, मुख्यमंत्री के परामर्शी आमोद कुमार, एरा एजुकेशन ट्रस्ट के सचिव मोहसिन अली खाँ, कोषाध्यक्ष मीसम अली खाँ सहित अन्य गणमान्य व्यक्ति भी उपस्थित थे।

Leave a Reply