जद यू के बाद सपा-बसपा में भी दिखा तूफ़ान का इफेक्ट

जद यू के बाद सपा-बसपा में भी दिखा तूफ़ान का इफेक्ट
जद यू के बाद सपा-बसपा में भी दिखा तूफ़ान का इफेक्ट

नरेंद्र मोदी के नाम का तूफ़ान आया और चला भी गया, पर उस तूफ़ान का इफेक्ट अब तक सामने आ रहा है। बिहार में नीतीश कुमार ने पद छोड़ दिया और अपनी जगह मुख्यमंत्री के पद पर एक दलित चेहरे को बैठाने की घोषणा कर दी है, इसी तरह आज इफेक्ट सपा और बसपा में नज़र आया। सपा ने दर्जा राज्य मंत्रियों को बर्खास्त किया है, वहीं बसपा ने अपनी कमेटियां भंग कर दी हैं।

समाजवादी पार्टी की यूपी सरकार ने आज 36 दर्जा प्राप्त मंत्रियों को बर्खास्त कर दिया। दुर्गा शक्ति नागपाल प्रकरण में चर्चा में आये नोएडा के नरेन्द्र भाटी, आशु मलिक, अनुराधा चौधरी, राजा चतुर्वेदी, सुरेन्द्र मोहन अग्रवाल, संदीप बंसल, गौ तस्करों से मिलीभगत के आरोपी केसी पाण्डेय, अनीस मंसूरी, सुरभि शुक्ला, सतीश दीक्षित, कमलेश पाठक, विद्यावती राजभर, सचिन पति गुप्ता, ओमवीर तोमर, कमरुद्दीन, रीबू श्रीवास्तव, राकेश यादव, राम सिंह राणा, रंजना बाजपेई, साहब सिंह सैनी, लीलावती कुशवाहा, राम बाबू, अंजला माहौर, बहादुर सिंह, मनोज राय, इंदु प्रकाश मिश्रा, इकबाल अली, सतेन्द्र उपाध्याय, हाजी इकराम, जगदीप यादव, मोहम्मद अब्बास, वीरेन्द्र सिंह, केपी सिंह चौहान, कुलदीप उज्जवल व जगदीश यादव से दर्जा राज्य मंत्री का ओहदा छीन लिया गया है।

इसी तरह बसपा प्रमुख मायावती ने पार्टी की सभी समितियों को भंग कर दिया है। बता दें कि मायावती को लोकसभा चुनाव में एक भी सीट नहीं मिली है, वहीं सपा को सिर्फ पांच सीटें मिली हैं, जिनमें सिर्फ परिजन ही जीते हैं।

Leave a Reply