गुणवत्ता में कमी पर नपेंगे बाढ़ विभाग के अधिकारी: त्रिपाठी

गंगा नदी के कछला तटबन्ध को दुरुस्त करने के लिए मिले हैं 25 करोड़ 31 लाख

बदायूं के जिलाधिकारी सीपी त्रिपाठी ने कहा कि कछला स्थित गंगा तटबंध पर मानकानुसार पत्थर न लगाने अथवा कार्य की गुणवत्ता खराब पाए जाने पर जिम्मेदार अधिकारियों के विरूद्ध कठोर कार्यवाही अमल में लाई जाएगी। श्री त्रिपाठी ने आज कछला स्थित गंगा नदी के तटबंध पर कराए जा रहे आगरा कट स्टोन से 4 सौ 83 लाख की लागत से 850 मीटर लम्बे स्लो पिचिंग ऐप्रिन निर्माण कार्य का मौका मुआयना किया और यह सुनिश्चित करने के निर्देश दिए कि पत्थर मानकानुसार ही लगाया जाए और कार्य की गुणवत्ता पर विशेष ध्यान रखा जाए, क्योंकि गुणवत्ता के साथ कोई समझौता नहीं किया जाएगा।

निर्माण कार्य का निरिक्षण करते जिलाधिकारी
निर्माण कार्य का निरीक्षण करते जिलाधिकारी

जिलाधिकारी जब कछला स्थित गंगा तटबंध पर पहुंचे, तो वहां निर्माण कार्य जारी था और आगरा कट स्टोन ट्रकों से उतारा जा रहा था। 850 मीटर लम्बाई के सापेक्ष 350 मीटर पर कार्य प्रगति पर था। जिलाधिकारी ने नरौरा बैराज से निकाली जाने वाली लिफ्ट कैनाल की प्रगति की भी जानकारी ली और निर्देश दिए कि इसके सर्वे का ब्योरा उन्हें उपलब्ध कराया जाए। तत्पश्चात जिलाधिकारी ने कलेक्ट्रेट स्थित सभा कक्ष में बाढ़ सुरक्षात्मक कार्यों की समीक्षा की और निर्देश दिए कि सोत नदी का सर्वे कराकर देखा जाए कि नदी में कहीं पर पानी की रूकावट या भराव तो नहीं है, जो पानी के बहाव को अवरूद्ध करे, ताकि ऐसे स्थानों को चिहिन्त कर इसमें मनरेगा येाजना से काम कराया जा सके। इसी प्रकार जिलाधिकारी ने राजस्व अभिलेखों में दर्ज नालों का सर्वे कराने के साथ बड़े तालाबों का भी सर्वे कराकर एक सप्ताह में रिपोर्ट तलब की है। जिलाधिकारी ने इसके अलावा उन स्थानों का सर्वे कराने के निर्देश दिए हैं कि जहां सिल्ट सफाई कराने की आवश्यकता है, ताकि वर्षा के पानी निकासी में किसी प्रकार की असुविधा उत्पन्न न होने पाए। जिलाधिकारी ने गिरते भूजल स्तर पर चिंता व्यक्त करते हुए खासकर डार्क जोन वाले ब्लाकों में तलाबों की खुदाई और वाटर रिचार्ज हेतु भी प्रस्ताव बनाने के निर्देश दिए हैं।
बैठक में बाढ़ खण्ड के अधिशासी अभियन्ता डीके जैन ने बताया कि दातागंज स्थित भाऊनगला तटबंध पर 641 लाख की लागत से 10 ठोकरें, जोरी नगला तटबंध पर 139 लाख से चौड़ी एवं उच्चीकरण का मिट्टी कार्य, ढकनगला में चन्दनपुर-हुसैनपुर तटबंध पर 555 लाख की लागत से  स्लो पिचिंग ऐप्रिन का निर्माण कार्य एवं  सहसवान में गंगा महावा तटबंध पर 713 लाख की लागत से चौड़ी और उच्चीकरण का मिट्टी कार्य कराया जाएगा।
जिलाधिकारी ने उक्त सभी निर्माण कार्यों को यथा शीघ्र मार्च से पूर्व कराने के निर्देश दिए हैं। जिलाधिकारी ने सोत नदी के साथ अरिल नदी का भी सर्वे कराने के निर्देश दिए है। इसके अलावा जिलाधिकारी ने निर्देश दिए हैं कि बाढ़ से प्रभावित होने वाले गांवों अथवा उनको अन्य स्थानों पर शिफ्ट करने का पूरा ब्यौरा उन्हें उपलब्ध कराया जाए। जिलाधिकारी ने बाढ़ खण्ड के अधिशासी अभियन्ता को निर्देश दिए कि लगातार कड़ी मेहनत कर अपनी निरन्तर देख रेख में निर्माण कार्यों को गुणवत्ता युक्त कराएं और यदि इस सम्बन्ध में उन्हें किसी प्रकार की शिकायत मिलती है तो कार्यवाही तय मानी जाए। इस अवसर पर अपर जिलाधिकारी (वि.एवं रा.) जयन्त कुमार दीक्षित, वरिष्ठ कोषाधिकारी पीडी उपाध्याय, उप जिलाधिकारी सदर बदलू प्रसाद, उप जिलाधिकारी सहसवान राम अरज यादव, उप जिलाधिकारी दातागंज उमेश उपाध्याय, बाढ़ खण्ड के जेई दिलशाद हुसैन सहित अन्य सम्बंधित अधिकारीगण मौजूद रहे।

डीएम ने देखा प्रस्तावित मेडीकल कालेज स्थल
जिलाधिकारी सीपी त्रिपाठी ने आज कछला स्थित गंगा नदी पर कराए जा रहे निर्माण कार्य का निरीक्षण करने के बाद प्रस्तावित मेडीकल कालेज के स्थल का मौका मुआयना किया और नक़्शा देखकर उसकी लम्बाई चौड़ाई का विवरण तलब किया है। ज्ञातव्य हो कि बदायूं-उझानी रोड पर स्थित सन्त फिलिंग स्टेशन के निकट गुनौरा बाजीवपुर में सौ एकड़ भूमि में मेडीकल कालेज बनया जाना प्रस्तावित है। जिलाधिकारी ने उसका मौका मुआयना कर इस मामले में अग्रिम कार्यवाही में तेजी लाने के निर्देश दिए हैं।

Leave a Reply