खुशखबरी: नोयडा में खुला नेसकाम का मुख्यालय

  • राज्य में पूंजीनिवेश और व्यापारिक गतिविधियों का वातावरण बनाए जाने की दिशा में ठोस कार्यवाही की जा रही है: मुख्यमंत्री
नेसकाम के शिलान्यास के अवसर पर बोलते मुख्यमंत्री अखिलेश यादव
नेसकाम के शिलान्यास के अवसर पर बोलते मुख्यमंत्री अखिलेश यादव
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने नेसकाम के नोएडा में मुख्यालय बनाये जाने पर बेहद प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश की वर्तमान सरकार आईटी क्षेत्र में प्रदेश को देश में सर्वोच्च स्थान पर लाने के लिए दृढ़ संकल्पित है। उन्होंने उत्तर प्रदेश की धरती पर नेसकाम का स्वागत करते हुए कहा कि नेसकाम एक ऐसा संगठन है, जो विश्व स्तर पर साफ्टवेयर, कन्सल्टेशन, बीपीओ और हार्डवेयर के क्षेत्र में कार्य कर रहा है।
मुख्यमंत्री अखिलेश यादव आज दिल्ली के ताज मानसिंह होटल में नेसकाम मुख्यालय, नोएडा के शिलान्यास कार्यक्रम को सम्बोधित कर रहे थे। इस अवसर पर मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा राज्य में पूंजीनिवेश और व्यापारिक गतिविधियों का वातावरण बनाये जाने की दिशा में ठोस कार्यवाही की जा रही है, जिसके फलस्वरूप कई सफल कंपनियों ने यहां पूंजी निवेश की इच्छा जाहिर की है। आज भी प्रदेश में कई घरेलू और अन्तर्राष्ट्रीय स्तर की कंपनियों जैसे एचसीएल, विप्रो, टीसीएस, सीएससी, बिरला साफ्ट, एक्सेंचर, सेपियन्ट, पाटनी, आईबीएम आदि द्वारा बड़े पैमाने पर कार्य किया जा रहा है।
श्री यादव ने इच्छा जाहिर की कि नोएडा के अतिरिक्त प्रदेश के अन्य जनपदों में भी सूचना प्रौद्योगिकी के लोग पहुंचें। उन्होंने बताया कि निजी पूंजी निवेश को आकर्षित करने के लिए प्रदेश सरकार ने कई योजनाएं चलायी हैं, जिसमें सूचना प्रौद्योगिकी एवं उस पर आधारित सेवाओं की कंपनियों को सुविधाएं प्रदान करने का निर्णय लिया गया है।मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में सूचना प्रौद्योगिकी नीति-2012 लागू की गयी है। इसके अन्तर्गत 200 करोड़ रुपये या उससे अधिक के मेगा प्रोजेक्ट्स स्थापित करने वाली सूचना प्रौद्योगिकी तथा सूचना प्रौद्योगिकी इनेबल्ड सर्विस इकाइयों को विशेष प्रोत्साहन दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि राज्य सरकार की कोशिशों के फलस्वरूप प्रदेश के औद्योगिक ढांचे में निरन्तर सुधार हो रहा है। नोएडा एवं ग्रेटर नोएडा में विकसित एवं समन्वित औद्योगिक टाउनशिप स्थापित हुई है।
श्री यादव ने अपने सम्बोधन में आगे कहा कि प्रदेश की राजधानी लखनऊ में आईटी सिटी का निर्माण कराया जा रहा है, जबकि प्रदेश के विभिन्न शहरों में आईटी पार्क भी स्थापित किये जाने की कार्यवाही तेजी से चल रही है। राज्य सरकार का यह प्रयास है कि वह उत्तर प्रदेश को एक अन्तर्राष्ट्रीय आईटी हब के रूप में विकसित करे। वर्तमान में उत्तर प्रदेश भारत का छठवां सबसे बड़ा आईटी निर्यातक प्रदेश है और यह उत्तर भारत का आईटी हब भी है तथा इस पूरे क्षेत्र में इसकी भागीदारी 35 प्रतिशत है। इसमें नोएडा, ग्रेटर नोएडा का योगदान आज किसी से छिपा नहीं है। प्रदेश में आईटी, इलेक्ट्रानिक्स और कम्युनिकेशन के क्षेत्र में शिक्षण का कार्य विश्वविद्यालयों, कालेजों सहित आईटीआई आदि में बड़े पैमाने पर हो रहा है। इस प्रदेश में आईआईटी, आईआईएम, ट्रिपल आईटी, आईटी-बीएचयू जैसे संस्थान भी अपना योगदान दे रहे हैं।
मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने बताया कि उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा छात्र-छात्राओं के उज्ज्वल भविष्य हेतु इण्टरमीडिएट पास विद्यार्थियों को बड़ी संख्या में लैपटाप वितरण का कार्य किया जा रहा है। इस अवसर पर मुख्यमंत्री श्री यादव ने बताया कि राज्य सरकार ने अवस्थापना एवं औद्योगिक नीति-2012 लागू की है, जिसका उद्देश्य पूंजी निवेश को आकर्षित करते हुए वर्तमान निवेशकों को और सुविधाएं प्रदान करना है, जिससे औद्योगिक क्षमता का विकास किया जा सके। प्रदेश में कई परियोजनाओं पर तेजी से कार्य किया जा रहा है, जिसमें आईटी सिटी, डेयरी प्लाण्ट, टेक्सटाइल पार्क, आईटीपार्क, मेगा लेदर क्लस्टर, मेगा फूड पार्क, मेट्रो रेल जैसी प्रमुख परियोजनाएं शामिल हैं। उन्होंने बताया कि विद्युत उत्पादन एवं वितरण में भी प्रभावी कदम उठाये हैं, जिसके परिणाम शीघ्र ही सामने आयेंगे। सौर ऊर्जा उत्पादन के लिए सोलर पावर प्रोजेक्ट्स लागू किये जाने की दिशा में भी कार्यवाही की गयी है। राज्य सरकार के प्रयासों के चलते प्रदेश में व्यापार और औद्योगिक विकास का वातावरण बना है।
मुख्यमंत्री ने आगे बताया कि उत्तर प्रदेश में कानून व्यवस्था को और अधिक मजबूत बनाने के लिए हमारी सरकार समुचित कदम उठा रही है। हम प्रदेश के हर नागरिक को सुरक्षा का माहौल देना चाहते हैं। इसलिए प्रथम चरण में प्रदेश के चार शहरों में आधुनिकतम पुलिसिंग व्यवस्था लागू करने जा रहे हैं। यहां महत्वपूर्ण एवं संवेदनशील स्थानों पर सीसीटीवी कैमरे और जीपीएस सिस्टमयुक्त गाडि़यां पुलिस को मुहैया कराने जा रहे हैं। दूसरे चरण में इस योजना के अन्तर्गत अन्य शहरों को भी लिया जाएगा। उन्होंने इस अवसर पर यह भरोसा दिलाया कि प्रदेश सरकार व्यापार, उद्योग और आर्थिक विकास की दिशा में कोई कोर-कसर नहीं छोड़ेगी। उन्होंने नेसकाम के सदस्यों को लखनऊ आमंत्रित किया। जहां राज्य के विकास के लिए एक कान्फ्रेंस आयोजित करने का सुझाव दिया। कार्यक्रम के अन्त में नेसकाम के चेयरमैन केके नटराजन ने मुख्यमंत्री सहित उपस्थित अन्य व्यक्तियों के प्रति आभार व्यक्त किया और उन्हें स्मृति चिन्ह भेंट किया।
इसके पूर्व एक ब्रेन स्टार्मिंग सेशन का आयोजन किया गया, जिसमें उत्तर प्रदेश प्रमुख सचिव सूचना प्रौद्योगिकी जीवेश नन्दन तथा नोएडा अथारिटी के मुख्य कार्यपालक अधिकारी रमारमण तथा नेसकाम के अन्य वरिष्ठ पदाधिकारियों ने उत्तर प्रदेश में सूचना प्रौद्योगिकी की वर्तमान स्थिति, भविष्य एवं सूचना प्रौद्योगिकी को बढ़ावा देने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा उपलब्ध करायी जा रही सुविधाओं पर विस्तृत प्रकाश डाला।

Leave a Reply