कुंभ पर प्रकाशित बुक को का राष्ट्रीय पर्यटन पुरस्कार मिला

 
  • सूचना निदेशक, उ0प्र0 को राष्ट्रीय पर्यटन पुरस्कार की ट्राफी एवं साइटेशन प्राप्त
कार्यक्रम में केन्द्रीय मंत्री शशि थरूर देवेश चतुर्वेदी को पुरस्कार देते हुए।
कार्यक्रम में केन्द्रीय मंत्री शशि थरूर देवेश चतुर्वेदी को पुरस्कार देते हुए।
इलाहाबाद में गत वर्ष सम्पन्न प्रयाग कुंभ-2013 के अवसर पर सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग, उ0प्र0‘ आस्था एवं आध्यात्मिकता का महापर्व महाकुंभ 2013’ नाम से प्रकाशित हिन्दी काफीटेबल बुक को भारत सरकार के पर्यटन मंत्रालय द्वारा उत्कृष्ट प्रकाशन (हिन्दी) के लिए राष्ट्रीय पर्यटन पुरस्कार 2012-13 से पुरस्कृत किया गया है।
सूचना विभाग, उ0प्र0 के कुंभ काफीटेबल बुक को यह पुरस्कार कल दिनांक 18 फरवरी 2014 को नई दिल्ली में आयोजित एक कार्यक्रम में केन्द्रीय मंत्री शशि थरूर द्वारा तत्कालीन मण्डलायुक्त इलाहाबाद देवेश चतुर्वेदी को दिया गया। मौजूदा समय में शासन में प्रमुख सचिव अल्पसंख्यक कल्याण के पद पर कार्यरत श्री चतुर्वेदी ने उत्कृष्ट प्रकाशन के लिए भारत सरकार से प्राप्त ‘अतुल्य ! भारत ट्राफी (राष्ट्रीय पर्यटन पुरस्कार 2012-13 उत्कृष्ट प्रकाशन-हिन्दी आस्था और आध्यात्मिकता का महापर्व महाकुंभ 2013 सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग, उत्तर प्रदेश ) निदेशक सूचना प्रभात मित्त्ल की तरफ से प्राप्त की और आज उन्हें सूचना विभाग में सौंपी।
राष्ट्रीय पर्यटन पुरस्कार 2012-13 के अन्तर्गत उत्कृष्ट प्रकाशन हिन्दी के लिए सचिव, पर्यटन मंत्रालय परवेज़ दीवान द्वारा हस्ताक्षरित गोल्डन साईटेशन प्लेट भी निदेशक सूचना प्रभात मित्तल के लिए भेजी गयी है।
उल्लेखनीय है कि कुम्भ 2013 के अवसर पर कुंभ से जुड़ी विभिन्न कथाओं, संस्मरणों के साथ ही अद्भुत छायाचित्रों को संजोते हुये लगभग 150 पृष्ठ की काफीटेबल बुक का प्रकाशन सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग द्वारा किया गया था। इस काफीटेबल बुक का प्रकाशन निदेशक सूचना प्रभात मित्तल के अतिरिक्त, अपर निदेशक सूचना डा. अनिल कुमार, उप निदेशक सूचना सैययद अमजद हुसैन और संपादक डा. संजय राय के मार्गदर्शन में प्रसिद्ध फोटोग्राफर प्रकाश सिंह एवं पवन कुमार तथा लेखक डा. राम सिंह यादव, डा. ओमप्रकाश भारती एवं उपेन्द्र कुमार द्वारा तैयार किया गया है। इसके प्रकाशन में जामिया मिलिया इस्लामिया के ख्वाजा चेयर के चेयरमैन प्रो. मोहम्मद हाशिम कुरैशी द्वारा विशेष सम्पादकीय सहयोग किया गया है। इस पुस्तक में कुंभ-2013 प्रयाग के लगभग 150 जीवंत चित्र हैं।

Leave a Reply