ऐसे करें जीडी की तैयारी

ऐसे करें जी डी की तैयारी

कैट जैसी परीक्षाओं के अलावा अब बहुत सी कंपनियों में भी जीडी यानि ग्रप डिस्कशन चयन प्रक्रिया का एक अनिवार्य अंग बन गया है। हर विषय पर अच्छी पकड़ रखने वाले भी इसमें मात खा जाते हैं। आइये जानें ग्रप डिस्कशन को प्रभावी बनाने वाले कुछ महत्वपूर्ण बिन्दु –

1 – ग्रप डिस्कशन में सफल होने के लिए जरूरी है कि आप ग्रप में एक टीम प्लेयर की तरह रहें। खुद को साबित करने की कोशिश में आप दूसरों की अवहेलना न करें।

2 -आप खुद को कैसे आँकते हैं, यह बात मायने नहीं रखती, बल्कि मायने इस बात के हैं कि मोडेरेटर पेनल आपको कैसे रेट करता है। अगर आप यह बात अपने दिमाग में रखें तो ग्रुप डिस्कशन में आपकी परफार्मेंस आश्चर्यजनक रूप से सुधर जाएगी।

3 – अगर आप जीडी में पहल करते हैं तो उसका फायदा यह है कि आपकी इमेज मोडेरेटर पेनल के समक्ष इनिशेटिव लेने वाले केंडिडेट की बनेगी। इसके अलावा दूसरी बार बोलने के लिए आपको पर्याप्त समय मिलेगा, जिसका आप बखूबी इस्तेमाल कर सकते हैं।

4 – डिस्कशन की शुरुआत तभी करें जब आप दिए गए टॉपिक पर कुछ सेंसिबल बोल सकें, अन्यथा खामोश रहना ही उचित होगा।

5 – जितना बोलें टू द प्वाइंट बोलें और डिस्कशन को तभी समाप्त करें, जब मोडेरेटर ऐसा करने को कहें।

6 – डिस्कशन को समराइज करने में एक ही बात को न दोहराएँ, बल्कि अपनी बात प्रभावशाली अंदाज में कहें।

7 – अगर ग्रप डिस्कशन के अंत तक डिस्कशन का कोई नतीजा निकल सके तो उसे मेंशन जरूर करें।

यदि आप जीडी की शुरुआत नहीं कर पाएँ हैं तो इन बातों पर ध्यान दें

1 – जीडी पर लगातार ध्यान बनाए रखें। हर जीडी में उतार-चढ़ाव आते हैं। आप उतार का इंतजार करें और जैसे ही लगे डिसक्शन कमजोर पड़ रही है, फौरन अपनी बात शुरू कर दें। इससे मोडेरेटर पेनल पर अच्छा असर पड़ेगा।

2 – किसी की बात काटकर बीच में न बोलें। तभी बोलना शुरू करें जब आपका साथी अपनी बात कह चुका हो, लेकिन ज्यादा इंतजार भी न करें, वरना आप मौका खो देंगे।

3 – ग्रप डिस्कशन में आप किसी प्वाइंट का समर्थन करते हुए अपनी बात शुरू कर सकते हैं। यह सबसे सुरक्षित तरीका माना जाता है। लोग आपको बोलने देंगे अगर आप उनके विचार की सराहना करेंगे।

4 – अगर आप धीरे बोलेंगे तो हो सकता है कि लोग आपको हल्के में लें। परिस्थिति के अनुसार अगर आप थोड़ा लाउड बोले रहे हैं तो यह समय की माँग है। क्या अवश्य करें

*जीतने की भावना रखें।

* मोडेरेटर पैनल के निर्देश ध्यानपूर्वक सुनें।

* अपनी बात को घुमाने के बजाय सरल तरीके से कहें।

* पूरे समय विनम्र बने रहें।

* अगर किसी बात से सहमत नहीं हैं तो उसके पक्ष में तथ्य पेश करें।

* ग्रप से आई कॉन्टेक्ट बनाए रखें।

क्या बिलकुल न करें

* जीडी में व्यवधान न डालें।

* खुद को मोनोपोलाइस करने की कोशिश न करें।

* पेनल को एड्रेस करने की भूल न करें।

* हाथों को बाँधकर न रखें।

* अपनी बारी आने से पहले न बोलें।

* तेजी से बोलने की कोशिश न करें।

* किसी की ज्यादा तारीफ करने से बचें।

* उत्तेजित न हों।

Leave a Reply