आरोपी राज्यमंत्री मनोज को गिरफ्तार नहीं कर रही पुलिस

मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और वरिष्ठ कैबिनेट मंत्री आजम खां के बीच में फोटो में नज़र आ रहे आरोपी मनोज पारस
मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और वरिष्ठ कैबिनेट मंत्री आजम खां के बीच में फोटो में नज़र आ रहे आरोपी मनोज पारस

बदायूं जिले के बिल्सी विधान सभा क्षेत्र से बसपा विधायक रहे योगेन्द्र सागर एक युवती का यौन शोषण करने के आरोपी हैं, उनके विरुद्ध अदालत ने तमाम आदेश जारी किये, लेकिन बसपा सरकार की पुलिस ने एक भी आदेश का अक्षरशः पालन नहीं किया। चूंकि उस समय बसपा के कद्दावर विधायकों में से एक थे, सो मामला टलता रहा, लेकिन अब वह भगोड़ा घोषित होने कारण भूमिगत हैं, इसी तरह अब सपा सरकार मनोज पारस को बचा रही है। बिजनौर जिले के नगीना विधान सभा क्षेत्र से समाजवादी पार्टी के विधायक मनोज पारस सरकार में नागरिक सुरक्षा मंत्रालय के साथ स्टाम्प एवं न्यायालय शुल्क पंजीयन विभाग के राज्यमंत्री भी हैं | वर्ष 2006 में एक दलित युवती के साथ बलात्कार करने के आरोप में अदालत उन्हें भी भगोड़ा घोषित कर चुकी है, लेकिन पुलिस उन्हें गिरफ्तार नहीं कर रही है, जबकि वह खुलेआम घूम ही नहीं रहे हैं, बल्कि जनसभाओं में मंचों पर दिखने के साथ सरकारी बैठकों में भी लगातार हिस्सा ले रहे हैं।

नगीना क्षेत्र से विधायक सपा सरकार के राज्यमंत्री मनोज पारस पर आरोप है कि उन्होंने बिजनौर जिले के नगीना थाना क्षेत्र में स्थित ग्राम बिंजाहेड़ी की एक दलित महिला को 8 दिसम्बर 2006 की दोपहर में राशन की दुकान दिलाने के बहाने अपने घर बुलाया और फिर अपने साथियों जयपाल पुत्र पूरन सिंह अस्सू पुत्र कृपाल, कुंवरसेन पुत्र रामस्वरूप के साथ मिल कर उसके साथ बलात्कार किया। आश्चर्य की बात यह है कि पीड़ित ने जिस समय आरोप लगाया, उस वक्त मुख्य आरोपी मनोज पारस बहुजन समाज पार्टी में थे और नगीना विधान सभा क्षेत्र के प्रभारी थे। पीड़ित महिला उस समय समाजवादी पार्टी (महिला प्रकोष्ठ) की विधान सभा क्षेत्र की कमेटी में सलाहकार थी, जिसका लाभ उस समय मनोज पारस ने उठाया और आरोप को राजनीतिक रंग दे दिया। इसके बाद सपा ने अपनी ही पार्टी की पदाधिकारी के आरोपी को पार्टी में ले लिया और सरकार बनने पर राज्यमंत्री का ओहदा भी दे दिया, जिससे आरोपी मनोज पारस अब अदालत और पुलिस दोनों पर भारी हैं।
आरोपी मनोज पारस आज बदायूं पहुँच कर महकमे के अधिकारियों के साथ बैठक करने वाले हैं। आगरा दिशा से आ रहे राज्यमंत्री मनोज पारस को गिरफ्तार करने की बजाये, पुलिस उन्हें सलाम करते हुए सीमा पार करा रही है। यही है लोकतंत्र का सच।

Leave a Reply