आगरा की तरह शाहजहांपुर में भी बेटी को गोली से उड़ाया

 

  • शाहजहाँपुर निवासी बीएससी प्रथम वर्ष की छात्रा थी प्रांची
  • कॉलेज के बहाने प्रेमी के साथ बाइक पर घूम रही थी
पिता की गोली का शिकार बीएससी प्रथम वर्ष की छात्रा प्रांची
पिता की गोली का शिकार बीएससी प्रथम वर्ष की छात्रा प्रांची

    जगेन्द्र सिंह की रिपोर्ट

समय के साथ लोगों की सोच में बड़ा परिवर्तन आया है। अब लोग लड़का-लड़का का भेद भूलते जा रहे हैं और लड़की को भी लड़के जैसी ही आज़ादी देने लगे हैं, लेकिन अभिभावकों के इस बदले रुख का कुछ लड़कियां दुरूपयोग कर रही हैं। ब्यॉय फ्रेंड बना रही हैं और उनके साथ मस्ती करती देखी जा रही हैं, जिसे हर पिता अभी नज़र अंदाज़ करने की स्थिति में नहीं है, ऐसी ही बेटी के एक पिता ने कल आगरा में अपनी बेटी को मौत के घाट उतार दिया। उसने घर में ही अपने कमरे में प्रेमी को बुला लिया था। आज शाहजहांपुर में भी ऐसी ही एक बेटी पिता की गोली का शिकार हो गई।

ऐसी ही घटना आज बुधवार दोपहर लगभग एक बजे शाहजहांपुर के थाना सदर बाजार अंतर्गत ककरा में घटी है। थाना रामचंद्र मिशन अंतर्गत मोहल्ला सराय काइयां दलेलगंज निवासी अजीत शुक्ला का मोहल्ला चौक में मेडिकल स्टोर है। उनकी बेटी प्रांची शुक्ला (18) आर्य महिला डिग्री कॉलेज में बीएससी प्रथम वर्ष की छात्रा थी। रोज की तरह आज भी वह कॉलेज गई थी। बताया जाता है कि कॉलेज से उसे मोनू नाम का लड़का अपने साथ बाइक पर घुमाने ले गया, तभी प्रांची के ताऊ के बेटे राहुल की नजर उन पर पड़ गई और राहुल ने उसका पीछा शुरू कर दिया, साथ ही राहुल ने अपने चाचा (प्रांची के पिता) अजीत शुक्ला को भी फोन कर दिया। इस बीच प्रांची ने राहुल को पीछा करते देख लिया और उसने मोनू को बता दिया, तो मोनू ने भी अपने मामा विशाल मिश्रा को फोन कर दिया। ककरा में पानी वाली टंकी के पास बाइक से आए पिता अजीत और भाई रजत ने दोनों को रोक लिया, तभी मोनू का मामा विशाल भी कार से आ गया और दोनों लोगों में हाथापाई होने लगी। अजीत शुक्ला ने रायफल निकाल ली और मोनू पर गोली दाग दी, लेकिन गोली मोनू की बांह को छू कर निकल गई, तभी अजीत ने दूसरी गोली चलाई, जो प्रांची की कमर में जा लगी। गोली से घायल बेटी को जमीन पर गिरते देख अजीत शुक्ला भाग गया और विशाल मिश्रा भी वहां से खिसक गया। मौके पर विशाल का ड्राईवर वरूण कार सहित रह गया। इसी बीच सूचना पाकर पुलिस मौके पर पहुंच गई और मौके पर मौजूद लोगों की सहायता से घायल प्रांची को जिला अस्पताल लाई, जहां डाक्टरों ने प्रांची को मृत घोषित कर दिया। पुलिस ने चालक वरूण को हिरासत में ले लिया है। घटना पूरे शाहजहाँपुर में चर्चा का विषय बनी हुई है।

बताया जाता है कि प्रांची का प्रेम प्रसंग मोहल्ले के ही आयुष्मान त्रिपाठी उर्फ मोनू नाम के लड़के के साथ चल रहा था। इसकी भनक परिवार वालों को भी थी। मोनू जिला सीतापुर के कस्बा महोली निवासी जय प्रकाश त्रिपाठी का बेटा है। सराय काइयां दलेलगंज में मोनू की ननिहाल है और वह कई वर्षों से ननिहाल में ही रहा है, यहाँ मामा विशाल शर्मा उर्फ भोला का आढ़त पर काम में हाथ बंटाता है।

Leave a Reply