आई.टी. सिटी से नौजवानों को नौकरी मिलेगी: मुख्यमंत्री

 
अपने आवास पर विचार व्यक्त करते मख्यमन्त्री अखिलेश यादव
अपने आवास पर विचार व्यक्त करते मख्यमन्त्री अखिलेश यादव
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा है कि सूचना प्रौद्योगिकी सेक्टर का दायरा अत्यंत व्यापक है और इसमें रोजगार की अपार संभावनाएं हैं। उन्होंने कहा कि लखनऊ में आई0टी0 सिटी के माध्यम से प्रदेश के नौजवानों को बड़ी संख्या में नौकरी मिलने के साथ-साथ रोजगारपरक प्रशिक्षण की सुविधा प्राप्त होगी।
मुख्यमंत्री लखनऊ में बनने वाले आई0टी0 सिटी के सम्बन्ध में आज अपने सरकारी आवास पर आयोजित एक कार्यक्रम में विचार व्यक्त कर रहे थे। इस अवसर पर राज्य सरकार द्वारा एच0सी0एल0 को आई0टी0 सिटी की स्थापना हेतु आशय पत्र सौपा गया। प्रदेश सरकार की ओर से यू0पी0इलेक्ट्रानिक्स कार्पोरेशन के प्रबन्ध निदेशक जी0एस0 नवीन कुमार ने एच0सी0एल0 के डी0के0 श्रीवास्तव को आशय पत्र प्रदान किया।
श्री यादव ने कहा कि राज्य सरकार का यह प्रयास है कि जिस स्तर का विकास और औद्योगिकीकरण दिल्ली व उसके आसपास के क्षेत्रों में दिखाई पड़ता है, वैसा विकास प्रदेश के अन्य इलाकों में भी नजर आए। लखनऊ में आई0टी0 सिटी की स्थापना की शुरुआत को प्रदेश सरकार द्वारा इस सम्बन्ध में किए जा रहे प्रयासों की सफलता बताते हुए उन्होंने एच0सी0एल0 एवं उसके संस्थापक अध्यक्ष शिव नाडर को इसके लिए बधाई दी। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार का यह प्रयास होगा कि आई0टी0 सिटी जल्द से जल्द बने। उन्होंने आई0टी0 सिटी परियोजना को प्रदेश के विकास के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण बताते हुए उम्मीद जताई कि आई0टी0 सिटी के माध्यम से बड़े पैमाने पर निवेश होगा।
मुख्यमंत्री ने कहा कि समाजवादी सरकार किसान, गांव, गरीब और लोकतांत्रिक संस्थाओं को मजबूत कर रही है। इसके साथ ही उस दिशा में भी सोच रही है, जहां मौजूदा समय में दुनिया तरक्की कर रही है, ताकि इन क्षेत्रों में बराबरी हासिल की जा सके। उन्होंने तकनीक के क्षेत्र में लगातार हो रहे बदलाव को समय से अपनाए जाने पर बल दिया। निःशुल्क लैपटॉप वितरण योजना का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि इसके तहत राज्य सरकार ने पूरे देश में सर्वाधिक संख्या में लैपटॉप वितरित किए। उन्होंने शिव नाडर फाउण्डेशन द्वारा शिक्षा, विशेष रूप से गरीब बच्चों की शिक्षा हेतु किए जा रहे प्रयासों की सराहना भी की।
मुख्य सचिव जावेद उस्मानी ने कहा कि आई0टी0 सिटी परियोजना राज्य सरकार की महत्वाकांक्षी परियोजना है। इसके तहत विश्व स्तरीय ट्रेनिंग सेण्टर का प्राविधान किया गया है, जबकि अन्य राज्यों में स्थापित आई0टी0 सिटी व पार्क में ऐसी व्यवस्था नहीं है। उन्होंने बताया कि चक गंजरिया में 100 एकड़ के क्षेत्र में स्थापित होने वाले आई0टी0 सिटी में 60 एकड़ का कोर एरिया और 40 एकड़ का नान कोर एरिया होगा। इसके तहत सूचना प्रौद्योगिकी तथा सूचना प्रौद्योगिकी आधारित सेवाओं से जुड़ी इकाइयों की स्थापना की जाएगी। अत्याधुनिक स्किल डेवलपमेंट सेण्टर बनाया जाएगा। साथ ही आवासीय एवं अन्य सुविधाओं का भी विकास किया जाएगा। परियोजना के पूरा होने पर 25 हजार लोगों को प्रत्यक्ष रोजगार तथा 50 से 60 हजार लोगों को अप्रत्यक्ष रोजगार मिलेगा। परियोजना की अनुमानित लागत 1500 करोड़ रुपए है। उन्होंने उम्मीद जताई कि आई0टी0 सिटी की स्थापना से प्रदेश व लखनऊ को एक नई पहचान मिलेगी।
शिव नाडर ने कहा कि एच0सी0एल0 द्वारा आई0टी0 सिटी परियोजना के क्रियान्वयन में गुणवत्ता पर पूरा ध्यान दिया जाएगा। उन्होंने कम्प्यूटर जगत में हो रहे बदलाव पर विस्तार से प्रकाश डालते हुए कहा कि आने वाला समय क्लाउड कम्प्यूटिंग का है। भविष्य में सूचना प्रौद्योगिकी क्लाउड कम्प्यूटिंग पर आधारित होगी। इसलिए पूरी दुनिया की तमाम संस्थाएं व कम्पनियां सामान्य कम्प्यूटिंग के स्थान पर क्लाउड कम्प्यूटिंग को अपनाने के लिए कार्य कर रही हैं। लखनऊ के आई0टी0 सिटी में एच0सी0एल0 द्वारा इस तकनीक पर भी काम किया जाएगा। इस प्रकार उत्तर प्रदेश में भी यह अत्याधुनिक कम्प्यूटिंग उपलब्ध हो सकेगी।
इस अवसर पर पंचायती राज मंत्री बलराम यादव, कारागार मंत्री श्री राजेन्द्र चौधरी, अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास आयुक्त आलोक रंजन, प्रमुख सचिव प्रौद्योगिकी जीवेश नंदन, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री राकेश गर्ग, सूचना निदेशक प्रभात मित्तल सहित शासन के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

Leave a Reply